Homeधार्मिककरणी माता का मंदिर कहां स्थित है ?

करणी माता का मंदिर कहां स्थित है ?

Date:

करणी माता का मंदिर कहां स्थित है ?

करणी माता का मंदिर कहां स्थित है ? तथा करणी माता किसकी कुलदेवी है और करणी माता के मंदिर का निर्माण किसने करवाया था?

करणी माता का मंदिर कहां स्थित है ?
करणी माता का मंदिर कहां स्थित है ?

करणी माता का मंदिर कहां स्थित है ?

राजस्थान की प्रमुख लोक देवी करणी माता का मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले के देशनोक नामक स्थान पर स्थित है। इस मंदिर का आधुनिक निर्माता बीकानेर के शासक महाराजा गंगा सिंह को माना जाता है।

करणी माता के मंदिर का निर्माण बीकानेर की स्थापना कर्ता राव बीका तथा सूरत सिंह ने करवाया था। इस मंदिर की आकृति मठ के समान है जो दूर से देखने पर उल्टी कटोरी के समान दिखती हुई प्रतीत होती है।

यह भी जानें जगत शिरोमणि मंदिर का निर्माण किसने करवाया ?

करणी माता मुख्यतः बीकानेर के राठौड़ वंश की कुलदेवी है तथा करणी माता चारण जाति की भी कुलदेवी मानी जाती है तथा इस माता को चूहों की देवी के नाम से भी जाना जाता है।

करणी माता का मेला वर्ष में दो बार आयोजित होता है करणी माता का पहला मेला क्षेत्र के नवरात्रों में तथा दूसरा मेला आश्विन मास के नवरात्रों के अंदर आयोजित होता है इस माता का मेला लगातार 9 दिन तक आयोजित होता है।

यह भी जानें Vastu Tips | Ghar me mandir kaisa ho | कैसा होना चाहिये घर में भगवान का पूजा का स्थान मंदिर

बीकानेर के राठौड़ वंश की कुलदेवी करणी माता के प्रतीक चिन्ह के रूप में सफेद चिल को पूजा जाता है जबकि करणी माता की आराधना करते समय चिरजा नामक गीत गाए जाते हैं।

करणी माता की आरती दो प्रकार से होती है पहले प्रकार की आरती संकट कालीन समय में होती है जबकि दूसरे प्रकार की आरती साधारण समय के दौरान आयोजित की जाती है।

Visit Now Twitter

करणी माता को चुहों की देवी अर्थात माता के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इस माता के मंदिर परिसर में सैकड़ो की तादाद में चूहे हैं। इस माता के मंदिर परिसर में दिखने वाले सफेद चूहों को काबा कहकर संबोधित किया जाता है।

मारवाड़ का राठौड़ वंश भी करणी माता की पूजा आराधना करता है तथा करणी माता को अपने आराध्य देवी मानता है। जबकि बीकानेर के राठौड़ वंश की करणी माता कुलदेवी है।

Related stories

Subscribe

- Never miss a story with notifications

- Gain full access to our premium content

- Browse free from up to 5 devices at once

Latest stories