Buy now

दुकान में किस तरह बैठना चाहिए

दुकान में किस तरह बैठना चाहिए

दुकान में किस तरह बैठना चाहिए तथा दुकान में मंदिर किस दिशा में होना चाहिए और दुकान में कौन सा यंत्र लगाना चाहिए तथा दुकान खोलते समय किस मंत्र का वाचन करना चाहिए

दुकान में किस तरह बैठना चाहिए
दुकान में किस तरह बैठना चाहिए
दुकान में किस तरह बैठना चाहिए

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार दुकान में उत्तर तथा पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके बैठना चाहिए। इसके अतिरिक्त दुकान के अंदर पश्चिम दिशा की ओर मुंह करके बैठना भी अच्छा होता है।

दुकान में कभी भी केस काउंटर के ऊपर अपने पैर रखकर नहीं बैठना चाहिए। दुकान में बैठते समय अपने पैरों को जमीन पर या दुकान के फर्श पर ही रखना चाहिए।

एक पाव के ऊपर दूसरा पांव रखकर के कभी भी दुकान में नहीं बैठना चाहिए क्योंकि इस तरह बैठने से दुकान में नकारात्मक हो जाती है तथा ग्राहकों की संख्या में भी कमी आती है।

यह भी पढ़ें दुकान में ग्राहक बढ़ाने के टोटके

दुकान की मुख्य कुर्सी पर केवल दुकान का मालिक ही बैठना चाहिए इसके अतिरिक्त किसी अन्य व्यक्ति को दुकान की कुर्सी पर नहीं बैठने देना चाहिए।

दुकान में मंदिर किस दिशा में होना चाहिए 

दुकान में मंदिर पश्चिम दिशा की ओर होना सर्वोत्तम माना जाता है इसके अतिरिक्त पूर्व तथा उत्तर दिशा की ओर भी दुकान में मंदिर होना अच्छा होता है। इसलिए दुकान में हमेशा मंदिर इस दिशा में ही होना चाहिए।

दुकान में मंदिर कभी भी दक्षिण दिशा की ओर नहीं लगाना चाहिए क्योंकि इस दिशा की ओर दुकान में मंदिर लगाने से वास्तु दोष उत्पन्न होता है तथा धन की हानि होने का भी भय बना रहता है।

यह भी पढ़ें दुकान के लिए वास्तु टिप्स , vastu tips in hindi for shop

दुकान में कौन सा यंत्र लगाना चाहिए 

दुकान में ग्राहकों की संख्या बढ़ाने के लिए चांदी के कछुए का बना हुआ यंत्र लगाना चाहिए क्योंकि यह यंत्र लगाने से दुकान में ग्राहकों की संख्या में भी वृद्धि होती है और सदैव दुकान में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है।

इसके अलावा दुकान में माता लक्ष्मी का महामंत्र से निर्मित चांदी का यंत्र लगाना भी शुभ होता है। साथ ही दुकान का कैश काउंटर कभी भी खाली नहीं रखना चाहिए अन्यथा फिर आपकी दुकान भी शीघ्र ही खाली हो सकती है।

दुकान खोलते समय किस मंत्र का वाचन करना चाहिए

दुकान हमेशा प्रातः काल के समय खोली चाहिए तथा दुकान खोलते समय ओम नमः शिवाय तथा ओम गणपतए नमः और माता लक्ष्मी के महामंत्र का वाचन करना चाहिए।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles