Buy now

भगवान शिव की पूजा विधि | Bhagwan Shiv Ki Puja Kaise Kare

भगवान शिव की पूजा विधि | Bhagwan Shiv Ki Puja Kaise Kare

भगवान शिव की पूजा विधि | Bhagwan Shiv Ki Puja Kaise Kare , Bhagwan Shiv Ki Puja Vidhi , भगवान शिव की पूजा विधि , भगवान शिव की पूजा कैसे करें।

भगवान शिव की पूजा विधि | Bhagwan Shiv Ki Puja Kaise Kare
भगवान शिव की पूजा विधि | Bhagwan Shiv Ki Puja Kaise Kare
भगवान शिव की पूजा विधि | Bhagwan Shiv Ki Puja Kaise Kare
  • भगवान शिव की पूजा करने के लिए सोमवार का दिन सबसे अच्छा दिन माना जाता है। इस दिन स्नानादि से निवृत्त होकर भगवान शिव की पूजा अर्चना करनी चाहिए।
  • भगवान शिव की पूजा करने की विधि बहुत ही सरल और आसान है क्योंकि भगवान शिव शीघ्र ही अपने भक्तों की मनोकामनाएं सुन लेते हैं इसलिए भगवान शिव को सोमवार के दिन बिलपत्र के पत्ते , बैर , चंदन , सफेद रंग के पुष्पों से सजी हुई पूजा थाली से शिव की आराधना करनी चाहिए।
  • भगवान शिव की पूजा विधि बेहद ही आसान और सरल है यहां तक कि भगवान शिव के समक्ष प्रातः काल के समय जल अर्पण करने से भी भगवान शिव अपने भक्तों की मनोकामना पूर्ण करते हैं।
  • यह भी पढ़ें सपने मे शिवलिंग देखना , SAPNE ME SHIVLING DEKHNA
  • भगवान शिव को तुलसी के पत्ते, आंकड़े के पत्ते , गुलाब के पत्ते इत्यादि भी अर्पण करके आसानी से प्रसन्न किया जा सकता है इसीलिए तो इनको आशुतोष भी कहा जाता है।
  • चंदन का लेप भगवान शिव यानी कि त्रिनेत्र के मस्तिष्क पर करने से भक्तों के आर्थिक संकट दूर होते हैं तथा शारीरिक कष्टों से मुक्ति मिलती है।
  • श्रावण के प्रथम सोमवार के दिन हमारे द्वारा बताई गई पूजा विधि से भगवान शिव की आराधना करने से उन लोगों की मनोकामना पूर्ण होती है जो विशेष रूप से शिक्षा के क्षेत्र में अपना भाग्य आजमा रहे हैं।
  • यह भी पढ़ें Mahashivratri : महाशिवरात्रि का व्रत क्यों रखा जाता है?
  • पूरा श्रावण का महीना भगवान शिव की आराधना करने के लिए उत्तम होता है यदि कोई भी व्यक्ति श्रावण के प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव का व्रत करता है तथा उनको जल अर्पण करता है तो इससे उस व्यक्ति के जीवन में अनेक प्रकार के परिवर्तन होते हैं।
  • भगवान शिव की पूजा विधि की थाली तैयार करते समय थाली को अच्छी तरह से साफ करना चाहिए और तत्पश्चात उसके अंदर एक अकेला , तांबुल , अशोक वृक्ष के पत्ते इत्यादि रखकर शिव की पूजा-अर्चना करनी चाहिए।
  • यह भी पढ़ें महाशिवरात्रि मनोकामना प्राप्ति उपाय
  • भगवान शिव के साथ उनके पुत्र गणेश तथा माता पार्वती की पूजा करना भी अति उत्तम होता है ऐसे करने वाले जातकों के जीवन में खुशी तथा समृद्धि का संचार होता है और दुखों का विनाश।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles