Buy now

राजस्थान के आभूषण: 2022 (Rajasthan Ke Aabhooshan)

राजस्थान के आभूषण: 2022 (Rajasthan Ke Aabhooshan)

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे‌ |Rajasthan Ke Aabhooshan|

Rajasthan Ke Aabhooshan
Rajasthan Ke Aabhooshan

धातु से निर्मित ऐसी वस्तु जिसका उपयोग महिला एवं पुरुष दोनों अपनी सुंदरता बढ़ाने के लिए करते हैं उसे आभूषण कहते हैं।

राजस्थान में आभूषणों (Rajasthan Ke Aabhooshan)का सर्वाधिक प्रयोग मेवाड़ तथा हाडोती क्षेत्र के आदिवासियों द्वारा किया जाता है।

राजस्थान में सर्वाधिक चांदी से निर्मित आभूषण पहने जाते हैं।

राजस्थान में सर्वाधिक सोने के आभूषणों का प्रयोग मारवाड़ क्षेत्र के लोग करते हैं।

राजस्थानी चित्रकला:2022 (Rajasthani Painting)

अब जानिए सिर से लेकर पैर तक के राजस्थान के आभूषणों का क्रम!

राजस्थान में प्रचलित प्रमुख आभूषण (Rajasthan Ke Aabhooshan)

सिर में पहने जाने वाले आभूषण-
शीशफूल, मैमंद, सांकली, देवाड़, टिड्डी, टीका, बोरला, मांगपत्र, सिरमांग, रखड़ी।

सिर के आभूषणों को याद करने का ट्रिक- शीशे में सकल देखी है जो टेडी बियर मांग रही है।

आंख का आभूषण- बादली

दांत के आभूषण- चूंप, रखन, धौंस, मेक, कील।

राजस्थान में पेट का आभूषण भम्भी कहा जाता है।

गले के आभूषण- तिमणिया, पचलडी़ बजरपट्टी, खुंगाली, हालरौ, सांसदी, जंजीर, जंतर, चंपाकली, चंदन हार, नलहार, मोतिहारी, कंठमाला, मटरमाला, चंद्रमाला, मोहनमाला, मांदलिया, तुलसी, टेवटा,आचौरी,बेहाम, मंगलसूत्र, कंठी।

गले के आभूषणों को याद करने का ट्रिक- तुम पांचो बाजार की गलियों से होकर जाना और चुपके से सारा माल तुलाकर लाना।

हाथ/कलाई के आभूषण- कडणी, बंगडी़, हथफुल,गजरा,पुच्या,पौची।

Visit now: Twitter

हाथ/कलाई के आभूषणों को याद करने का ट्रिक– काकी बनड़ी के हाथ क्यों फुले जरा पुछिया

बाजू के आभूषण-बाजूबंद, भुजबंद, तकिया, हारपान, नवरत्न,अणत, बट्टा,अरत, टड्डा।

बाजू के आभूषण याद करने का ट्रिक– बाजू तक हार पहन अनु बेटी क्योंकि औरतें होती है टेडी

कमर के आभूषण- जंजीर, कंडोर, कंडोरा, तगड़ी, करधनी, कनक्ति सटका।

Rajsathan Ke Rang Brange Gaon राजस्थान के रंग-बिरंगे गांव

कमर के आभूषण याद करने का ट्रिक– जीजू के कमरे में तगड़ा धन कनक्ति का सेट मिला

कान के आभूषण- कर्णफूल, कोकरू, ओगनया,अंगुठिया, पीपलपत्ता, परसुलिया, लटकन, सुरफिया, सुरलिया,छेलकडी़,टोटी,झुमण,झुमका,मुरकिया।

कान के आभूषण याद करने का ट्रिक- काणिया गाठिया पीपल पर लटका ससुरी लकड़ी टूटी और झूले में अटका।

नाक के आभूषण- चुन्नी, चाप, बसेरी, लटकन, बाली, नथ, कांटा, लूंग‌।

नाक के आभूषण याद रखने का ट्रिक- चुपचाप बस पर लटक वरना नाक काट दूंगा

पैर के आभूषण- पायल, रमझोल, नेवरी, छड़, अनोटा, तोड़ा, फोलरी नूपुर, पेजणी, लंगर, हिरणामैन, गोल्या।

पैर के आभूषण याद रखने का ट्रिक– पहले राम ने छड़ से आंवले तोड़े फिर नूपुर का पेज लेकर हिरण की तरह भाग गया।

राजस्थान के प्रमुख महोत्सव

आशा करते हैं हमारे द्वारा राजस्थान के आभूषणों (Rajasthan Ke Aabhooshan) पर लिखा गया ये लेख आपको पसंद आया होगा। आपको यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में अवश्य बताएं।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles