Buy now

किस मुहूर्त में जागना चाहिए , जागने का शुभ मुहूर्त

किस मुहूर्त में जागना चाहिए , जागने का शुभ मुहूर्त

किस मुहूर्त में जागना चाहिए , जागने का शुभ मुहूर्त , सुबह कितने बजे जागना चाहिए , सुबह जल्दी उठने का सही समय क्या है , ब्रह्म मुहूर्त क्या होता है , ब्रह्म मुहूर्त का समय क्या होता है , kis muhurt mein jagna chahie , jagne ka shubh muhurt , subah kitne baje jagna chahie , subah jaldi uthne ka Sahi samay kya hai , braham muhurt Kya hota hai , braham muhurt ka samay kya hota hai

किस मुहूर्त में जागना चाहिए , जागने का शुभ मुहूर्त
किस मुहूर्त में जागना चाहिए , जागने का शुभ मुहूर्त

प्रत्येक दिन में लगभग 60 मुहूर्त होते हैं जिनमें एक मुहूर्त का समय 48 मिनट होता है। नहाने, कपड़े धोने, कपड़े पहनने, खाना खाने, सुबह जागने, उठने तथा सोने संबंधित अनेक मुहूर्त देखे जाते हैं। इस लेख में जानिए किस मुहूर्त में जागना चाहिए ,जागने का शुभ मुहूर्त

किस मुहूर्त में जागना चाहिए , जागने का शुभ मुहूर्त

प्रत्येक उस व्यक्ति को ब्रह्म मुहूर्त में जागना चाहिए जिसको अपने जीवन में निरंतर सफलताएं प्राप्त करना है तथा शारीरिक बाधाओं और सामाजिक समस्याओं से दूर रहना है।

क्योंकि ब्रह्म मुहूर्त जागने तथा सुबह जल्दी उठने का सबसे सर्वश्रेष्ठ समय माना गया है। इस समय को प्रभु के मिलन के समय के रूप में भी जाना जाता है।

सुबह कितने बजे जागना चाहिए

प्रातः काल में सुबह 3:00 बजे से लेकर सूर्योदय से पहले जागना चाहिए। क्योंकि इस समय के दौरान आपके आराध्य के दरवाजे खुले रहते हैं तथा प्रभु मनोकामनाएं भी इस समय के दौरान शीघ्र ही सुनते हैं।

पशु खरीदने का शुभ मुहूर्त 2023

ब्रह्म मुहूर्त क्या होता है

ब्रह्म मुहूर्त व समय होता है जिसमें प्रकृति में उल्लास तथा उमंग का संचार होता है साथ ही इस समय में संपूर्ण प्राणियों में नई ऊर्जा का संचार होता है।

ब्रह्म मुहूर्त का समय क्या होता है

ब्रह्म मुहूर्त का समय सर्वश्रेष्ठ सूर्योदय से 96 मिनट पहले होता है परंतु मुख्य रूप से ब्रह्म मुहूर्त का आरंभ सुबह 4:30 बजे से लेकर 5:00 बजे तक रहता है। इस समय के दौरान जब आप कभी भी जागते हैं तो उसे ब्रह्म मुहूर्त में जागना ही माना जाता है।

सुबह जल्दी उठने का सही समय क्या है

सुबह जल्दी उठने का सही समय ब्रह्म मुहूर्त का समय होता है इस समय में उठने से शरीर के विषैले तत्व नष्ट हो जाते हैं तथा इस दौरान अपने इष्ट देव की आराधना करने से अपनी बात आसानी तक उन तक पहुंच जाती है।

किसी भी मनुष्य को मात्र 6 घंटे ही सोना चाहिए क्योंकि इससे अधिकांश समय तक सोने वाले लोगों को आलसी प्रवृत्ति का माना जाता है। इसलिए यदि अपने जीवन में सफल होना है तो सुबह जल्दी उठने का निश्चय करें।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles